साँसे अपनी रोककर तुझे छूने की तमन्ना हल्का सा छूकर ख़ुशी-ख़ुशी लौट आना… . . ये कोई रोमांटिक शायरी नही कब्बडी की परिभाषा है !!