Love Shayari Archive

Latest Romantic Hindi Shayari

********************************************************** मुहब्बत से हर फ़र्ज़ निभाए बैठे हैं तुम कितनी आसानी से सोचती हो कि तुम्हें भुलाये बैठें हैं! कैसे कहूँ तेरे बगैर हर दर्द पी रहा हूँ मुहब्बत के कर्जों को किश्तों में जी रहा हूँ