Hindi Shayari

फरेबी भी हूँ,




ज़िद्दी भी हूँ,

और पत्थर दिल भी हूँ….

मासूमियत खो दी है मैंने

वफ़ा करते करते…!!

©मनीषयादव

****************************************************************************

मैं अपने गीत-गजलों से,तुम्हें पैग़ाम करता हूँ,

तुम्हारी दी हुई दौलत तुम्हारे नाम करता हूँ ।

हवा का काम है चलना, दीये का काम है जलना,

तुम अपना काम करती हो, मैं अपना काम करता हूँ ।।

©मनीषयादव

*****************************************************************************

अदब की मांग थी, तहज़ीब ने झुकाया था,

गुमां न रखना कि, तुमने मुझे हराया था!

कहने वालों का कुछ नहीं जाता

सहने वाले कमाल करते हैं

कौन ढूंढें जवाब दर्दों के

लोग तो बस सवाल करते हैं…

लेकर के मेरा नाम मुझे कोसता तो है …

नफरत में ही सही पर मुझे सोचता तो है…!!

©मनीषयादव

****************************************************************************

तुम बिना हथेली की हर लकीर प्यासी है

तीर पार कान्हा से दूर राधिका-सी है

रात की उदासी को याद संग खेला है

कुछ गलत ना कर बैठें मन बहुत अकेला है

औषधि चली आओ चोट का निमंत्रण है

बाँसुरी चली आओ, होंठ का निमंत्रण है….

©मनीषयादव

**************************************************************************


Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: