Latest Romantic Hindi Shayari

**********************************************************
मुहब्बत से हर फ़र्ज़ निभाए बैठे हैं
तुम कितनी आसानी से सोचती हो कि तुम्हें भुलाये बैठें हैं!
कैसे कहूँ तेरे बगैर हर दर्द पी रहा हूँ
मुहब्बत के कर्जों को किश्तों में जी रहा हूँ ।।
©मनीष यादव
************************************************************
लफ्ज़ हरपल ख़ामोशी को सहता रह गया
तुम्हे देखा और फिर से देखता रह गया
वो पूछने लगा भीड़ में तन्हाई की वजह
मैंने तुम्हें गुनगुनाया और वो सुनता रह गया ।।
©मनीष यादव
*************************************************************
जाने कैसे चैन से सो जाते हैं लोग …
हमे तो किसी की याद सोने नही देती !
©मनीष यादव
************************************************************
कौन कहता है कि दिल सिर्फ सीने में होता है
उसको लिखूँ तो मेरी उंगलियाँ भी धड़कती है..!
©मनीष यादव
***********************************************************


Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *