चुटकले

एक स्कूटर के आगे “Press” लिखा हुआ था।पूछा किस अखबार में काम करते हो?
बोला “साहब धोबी हूँ, सोसाईटी में कपड़े

प्रैस करता हूँ..




—————-
हम तो अकेले ही चले थे मंजिले सफर

लड़कियां मिलती रही शादियां होती गई। 

 …..कबीर बेदी

——————-
आर्यभट्ट ने अपनी धर्मपत्नी से पूछा,
” मुझे अपनी मित्र मंडली साथ पार्टी करने की परमीशन तुम मुझे दोगी इस बात की कितनी संभावना है ?? ”
पत्नी ने तिरछी नजरों से उन्हें देखा और बोली,
” प्राणनाथ, आपको कितनी संभावना लगती है ?? ”

.

.

.

.

.

.

और इस प्रकार ” शून्य ” की खोज हुई!

????????????

—————
मार्टिन लूथर किंग ने कहा

“अगर तुम उड़ नहीं सकते तो, दौड़ो !

अगर तुम दौड़ नहीं सकते तो,…चलो !

अगर तुम चल नहीं सकते तो,……रेंगो !

पर आगे बढ़ते रहो !”
तभी एक कनपुरिया ने गुटका थूकते हुऐ कहा :- वो सब तो ठीक है, पर भोंसड़ी के जाना कहाँ है ।

????????????


Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: